Breaking News

परिवार संग अपना जन्मदिन मनाकर यह वादा करके गए थे पंकज, माता-पिता की आंखों से आंसू नहीं थम रहे हैं


मथुरा की बालाजीपुरम कॉलोनी के रहने वाले एयरफोर्स के जांबाज पंकज सिंह नौहवार देश सेवा में कुर्बान हो गए। उनकी शहादत के खबर मिलने के बाद से ही परिवार में कोहराम मचा हुआ है। शहीद की पत्नी, माता-पिता व अन्य परिजनों की आंखों से आंसू नहीं थम रहे हैं। 

अश्रुधार के बीच शहीद पंकज का मासूम बेटा पापा को तलाश रहा है। वो अपने पापा की शहादत से अनजान है। उसे नहीं मालूम कि मम्मी, दादा-दादी क्यों रो रहे हैं, लेकिन उन्हें रोता देख वो भी फफक पड़ता है और मोबाइल पर पापा की तस्वीर देख खामोश हो जाता है।

बालाजीपुरम में रहने वाले रिटायर सूबेदार मेजर नौबत सिंह के पुत्र पंकज 2012 में वायु सेना में एयरमैन तकनीकी के पद पर भर्ती हुए थे। मौजूदा समय में पंकज की तैनाती एयरफोर्स स्टेशन श्रीनगर में थी। पंकज की 26 फरवरी को मां रेखा नौहवार और भाई अजय से बात हुई थी।


जम्मू-कश्मीर के बडगाम में पंकज ने चॉपर से एक स्पेशल ऑपरेशन के लिए उड़ान भरी थी। अचानक चॉपर गिर गया। इसमें वो शहीद हो गए। पंकज 24 दिन पहले ही छुट्टी काटकर ड्यूटी पर गए थे। उनका पार्थिव शरीर मथुरा लाया जा रहा है।

उन्होंने बताया था कि 27 फरवरी को स्पेशल ऑपरेशन के लिए रिहर्सल होना है। सुबह को उसमें व्यस्त रहेंगे। घर वालों ने बताया कि जब आज सुबह फोन किया तो बात नहीं हो पाई थी। फोन स्विच ऑफ जा रहा था। बुधवार की दोपहर को करीब ढाई बजे श्रीनगर यूनिट से फोन आया कि पंकज नहीं रहे। इतना सुनते ही परिवार में कोहराम मच गया। हर किसी का रो-रोकर बुरा हाल था।

No comments